Friday, 23 December 2016

मूल्य - (लघुकथा)

छुट्टी की बड़ी समस्या है दीदी, पापा अस्पताल में नर्सो के सहारे हैं! भाई से फोनवार्ता होते ही सुमी तुरन्त अटैची तैयार कर बनारस से दिल्ली चल दी|
अस्पताल पहुँचते ही देखा कि पापा बेहोशी के हालत में बड़बड़ा रहें थे| उसने झट से उनका हाथ अपने हाथों में लेकर, अहसास दिला दिया कि कोई है, उनका अपना |
हाथ का स्पर्श पाकर जैसे उनके मृतप्राय शरीर में जान सी आ गयी हो |
वार्तालाप घर-परिवार से शुरू हो न जाने कब जीवन बिताने के मुद्दे पर आकर अटक गयी |
एक अनुभवी स्वर प्रश्न बन उभरा, तो दूसरा अनुभवी स्वर उत्तर बन बोल उठा -"पापा पहला पड़ाव आपके अनुभवी हाथ को पकड़ के बीत गया | दूसरा पति के ताकतवर हाथों को पकड़ बीता और तीसरा बेटों के मजबूत हाथों में आकर बीत गया |"
"चौथा ..., वह कैसे बीतेगा, कुछ सोचा ?? वही तो बीतना कठिन होता बिटिया |"
"चौथा आपकी तरह !"
"मेरी तरह !! ऐसे बीमार, निसहाय !"
"नहीं पापा, आपकी तरह अपनी बिटिया के शक्तिशाली हाथों को पकड़, मैं भी चौथा पड़ाव पार कर लूँगी |"
"मेरा शक्तिशाली हाथ तो मेरे पास है, पर तेरा किधर है?" मुस्करा कर बोले |

तभी "नानाजी'" अंशु का ऊँचा स्वर कानों में घंटी सा बज, पूरे कमरे में गूँज उठा| समवत दो और स्वर गूँजे ! आवाज़ पहचानकर, भावातिरेक में सुमी उठी तो लड़खड़ा गयी | दोनों बेटे आगे बढ़कर दोनों हाथ पकड़, उसे सम्भाल लिए|

सुमी के पिता गर्व से बोले 
"संस्कारित जमीन में चंदन ही महकेगा,कँटीला बबूल नही ।" 
!" सविता मिश्रा

Friday, 18 November 2016

श्वास- (लघुकथा)


"अरे मुंगेरी, खाना खाने भी चलेगा, या मगन रहेगा यहीं |" मुंगेरी को दीवार से बात करता हुआ देख चाचा ने कहा |
बहुमंजिला इमारत में प्लास्टर होने के साथ बिजली का भी काम चल रहा था | दोपहर में भोजन करने सब नीचे जाने लगे थे | मुंगेरी भी चाचा के साथ नीचे आकर जल्दी-जल्दी खाना ख़त्म करने लगा | तभी अचानक इमारत धू-धूकर जलने लगी | जैसे ही आग मुंगेरी के बनाये मंजिल पर पहुँची, मुंगेरी फफक कर रो पड़ा | सारे मजदूर महज हो-हल्ला मचा रहे थे | लेकिन मुंगेरी ऐसे रो रहा था जैसे उसकी अपनी कमाई जलकर ख़ाक हो रही हो |
"तू इतना काहे रो रहा रे !" एक बुजुर्ग बोला|
"मेरी मेहनतss"
"मेहनत तो सबने की थी न, तेरी तरह तो कोई नहीं रो रहा है | और कौन सी अपनी मेहनत की कमाई लगी इसमें | हम तो राजगीर है, इधर मजदूरी मिली, उधर दीवार से रिश्ता ख़त्म |"
"मेरा तो सपना जल रहा है | अपना तन जलाकर कितने मन से बनाया था मैंने |"
"तन तो सबने ही जलाया, उसी की तो मजदूरी मिलती थी| अच्छा हुआ जल गया | अब साल भर की मजदूरी का यहीं फिर से जुगाड़ बन गया |"
"लेकिन उस मंजिल में जो रहता वह मुझे ही याद करता |" मुंगेरी आंसू पोंछते हुए बोला |
"अरी ! ताजमहल थोड़े ही बनाया था |" कहकर एक मजदूर युवक ठहाका मार के हँसा |
"मेहनत से मैंने मंदिर बनाया था | जिसमें प्रेम भाव से सुकून बसाया था | दीवारें भी बोलती हुई सी थीं उसकी | रहने वाला मकान में नहीं बल्कि घर में रहना महसूस करता |"
"ऐसा क्या किया था रे तूने !!"
"आह के श्वास से नहीं बल्कि मेहनत और उल्लास से भर खड़ी करी थीं दीवारें मैंने |"
सुनते ही सब बगले झाँकने लग पड़े | सविता मिश्रा

Sunday, 13 November 2016

कीमत-(लघुकथा)


"माँ कैसे लाऊँ तेरे लिए पैरासिटामॉल! पांच सौ, हजार की नोट बंद हो गयीं, वही पर्स में है |"
"रहने दे बेटा परेशान न हो, मैं ठीक हो जाऊंगी।"
"आज सुबह ही शनिवार  के कारण  मंदिर के भिखारियों में रेज़गारी सारी बाँट आया मैं।  क्या पता था शाम आठ बजते ही यह नोटबन्दी की दुदुम्भी बज जायेगी।
"सुनिए जी .."
"अब तू क्या आर्डर करेगी| देख नहीँ रही है परेशान हूँ !"
चिल्लाते ही झेंपता हुआ बुदबुदाया -- " छोटी नोट तो घर में रहने ही न दिए मैंने। चिल्लाता था कि भिखारियों की तरह क्या चिल्लर जमा करके रखती हो। अब मैं तुम पर क्यों खीझ रहा हूँ !"
"समाचार में तो सुना था कि हस्पताल और दवा वाले लेंगे यह नोट|" वह धीरे से बोली।
"पर ले तो नहीं रहें हैं न ! वह इस बन्दी का फायदा उठाकर अपना ब्लैकमनी ठिकाने लगाएंगे या हमारा दर्द समझकर हमारी सहायता करेंगे। सबकी लंका जली पड़ी है इस समय।"
"अच्छा सुनिये!!"
"अब क्या? ढूढ़ने देगी दस बीस रुपये कि नहीं!"
"वहीँ दे रही हूँ! लीजिए।"
"कहाँ से मिला! मैं तो कब से खोज रहा हूँ। पर यह पॉलीथिन में क्यों रख के दे रही है ! ऐसा लग रहा है सौ  रुपये नहीं बल्कि हजारों पकड़ा रही है !"
"इस जरूरत में तो यह हजारों से भी ज्यादा है। पॉलीथिन में इस लिए दे रहीं हूँ क्योंकि फटा हुआ है।"

यदि जेब में और फट गया तो यह भी हज़ार की नोट की तरह दो कौड़ी का हो जायेगा।"
"हाँ सही कह रही हजार की नोट से भरे हुए इस बटुए पर आज यह फटा हुआ सौ का नोट भी भारी है|" 
"मैं माँ के माथे पर ठंडी पट्टी रखती हूं। आप जाइये जल्दी से दवा लाइए। कल सब्जी के लिए भी तो पैसे चाहिए !"
"हाँ, जाता हूँ! पांच रुपये की दवा आएगी और जो बचेंगे उनसे सन्डे तक काम चल जायेगा।"
"बड़ी नोट रखने का ख़ामियाजा तो भुगतना ही पड़ेगा कल तक।"
"गूंगी भी बोलने लगी।  सोमवार की सुबह ही इन सारी नोटों को छोटी करा लाऊँगा।"
सविता

'प्रतियोगिता के लिए' चित्र पर आधारित

Wednesday, 9 November 2016

खोटा खज़ाना-

"पाँच सौ और हजार की नोटें बंद हो गयीं माँ, दो दिन बाद ही बैंक खुलेगा | तब इन्हें बदलवा पाऊँगा।" फोन पर बेटे से यह सुनते ही दीप्ती का चेहरा पीला पड़ गया |

वह बदहवास सी अलमारी की सारी साड़ियाँ निकालकर पलंग पर फेंकने लगी | पुरानी रखी साड़ी की तहों में से कई हरी-लाल नोट मुस्करा रही थीं | नोट देखते ही दीप्ती का चेहरा मुरझाए फूल सा हो जाता था |

फिर अचानक कुछ याद आते ही रसोई में जा पहुँची | चावल-दाल के सारे ड्रम वह पलट डाली | चावल के ढ़ेर से झांकते कड़क नोट उसको मुँह चिढ़ा रहे थें। ड्रम और मसालों के डिब्बों से निकले नोट इक्कट्ठा करके फिर से कमरे में आ गयी | अलमारी में बिछे अख़बार के नीचे भी उसने नजर दौड़ाई | अखबार हल्का सा उठाते ही लम्बवत लेटे नोट खिल उठते | पूरा अखबार उठाते ही सारे बिछे नोट हौले से अखबार के साथ अठखेलियाँ करने लगे | जिन्हें कल तक देखकर वह ठंडक पाती थी आज उबल पड़ी | रसोई और अलमारी से सारे नोट इक्कट्ठे होते ही उसे आश्चर्य हुआ 'इतना रुपया था उसके पास'|
चार दिन पहले ही तो पतिदेव से यह कहकर पैसे मांगे थे कि पैसे नहीं हैं | दो तारीख हो गयी आपने महीने खर्च के पैसे नहीं दिए अभी | "अब क्या कहूँगी मैं उनसे?" बुदबुदाई दीप्ती |
"बिल्ली के जैसे दबे पाँव यह खेल खेला सरकार ने | इस भूचाल की आहट ही न होने दी | महीने दो महीने पहले थोड़ी भी सुगबुगाहट मिलती तो धनतेरस पर मैं हार नहीं गढ़वा लेती |" करारे-करारे नोट देख आंखे नम हो गयीं उसकी |
रूपये बारम्बार गिनती हुई पूरी रात दीप्ती अपनी बचत को छुपाने की आदत पर सिर धुनती रही |
सविता मिश्रा

Sunday, 6 November 2016

संगत -

संगत - तनुज अपनी बड़ी बहन की शादी के पांच-छ साल बाद उनकी ससुराल आया था| पता चला छठ पूजा के लिए सब पोखर की तरफ गए हैं| वह अपनी बहन से मिलने वहीं आ गया| छोटे से गंदे पोखर में छठ मैया की पूजा करने वालों की भीड़ लगी थी| तनुज हतप्रभ होकर अपनी बहन को पूजा करते एक टक निहारने लगा| दीदी को पूजा में ऐसे मग्न देखकर वह बरबस ही पुरानी यादों में घिरता जा रहा था| यह वही दीदी हैं जो कभी भी गंदे पानी में किसी को भी नहाते देखती थीं तो दस नसीहतें देने लगती थीं, खुद नहाना तो बहुत दूर की बात थी| बुआ जब घर आ जाती थीं तब चप्पल पहनकर रसोई में जाने को मनाही हो जाती थी| तो दीदी रसोई में कदम नहीं रखतीं थीं| मंदिर के साफ़ सुथरे फर्श पर भी बिना चप्पल के पैरों को अजीब सा मोड़कर चलती थीं| माँ की हर बात पर दसियों तर्कवितर्क करतीं थीं| 'वही दीदी आज नंगे पैरों से इस कंकडों भरे रास्ते पर चलकर आई हैं| ऊपर से कीचड़युक्त तालाब में डुबकी लगाकर, इतनी देर से खड़ी भी हैं|' आश्चर्यचकित होकर बुदबुदाया| दीदी पूजा निपटाकर भाई को देखकर खुश होते हुए जैसे ही पास आई| तनुज अपनी चप्पल आगे करके बोला- "दीदी चप्पल पहन लीजिए, कंकड़ चुभेंगे पैरों में|"| "नहीं बाबू, श्रद्धा और भक्ति की शक्ति हैं मेरे पास, चल लूँगी|" तनुज आश्चर्य से बोला- "दीदी क्या है ये सब, आप और ये !!" "पूरा नगर ही छठ का उपवास इसी तरह करता हैं| यह संगत का असर है बाबू।" ==============================

(चित्र आधारित)

Tuesday, 1 November 2016

तरीका (लघुकथा)


=====

"क्या हुआ बड़े उदास दिख रहे हो| दूकान से भी इतनी जल्दी वापस आ गये?" कहते कहते रसोई में चली गयी |
पानी देते हुए बोली -"आजकल हो क्या गया है तुम्हें ? त्यौहार में तो खूब बिक्री हो रहीं होगी, फिर भी यह मायूसी क्यों चेहरे पर ?"
"कुछ नहीं संजू लुट गया मैं |"
"अरे! कैसे, बदमाश पीछे पड़ गए थे क्या?"
"नहीं संजू, ये साले समाजसुधारक रोजी-रोटी डुबाने पर तुले हुए हैं|"
"क्या कह रहे हो जी, ऐसा क्या कर दिया उन लोगों ने, जो आपकी दूकान बन्द होने की कगार पर आ गयी |"
"हर गली, हर मुहल्ले में चायनीज सामान के खिलाफ़ लोगों के दिमाग में चिंगारी लगा दी इन नासपिटों ने | वह चिंगारी ऐसी भड़की कि इस त्यौहार में रोटी के भी लाले पड़ने के आसार दिख रहें हैं|
"चायनीज!! चायनीज सामान के तो आप भी विरोधी थे| रखे ही क्यों ?"
"क्या बताऊ संजू , ज्यादा मुनाफ़ा कमाने के चक्कर में कहीं का न रहा| सोचा था उस मुनाफ़े से दीपावली में एक फ़्लैट खरीदूंगा| परन्तु अब तो न घर का रहा न घाट का | वह साला राजेश, जो अपनी दूकान में रखे हुए तिरंगे का अपमान करता है, वह भी पीठ पीछे मुझे देशद्रोही कह रहा है|"
"अच्छा..! कल के अख़बार को पढ़ वही राजेश, सबके सामने आपको देशभक्त और दयालु व्यक्ति कहेगा! कहकर कुछ सोचते हुए वह एक नामचीन एनजीओ का नम्बर घुमा के बात करने लगी |सविता मिश्रा
(चिंगारी विषय पर लिखी गयी लघुकथा )

Tuesday, 25 October 2016

गिरह

पत्नी और माँ के बीच होते झगड़े से आज़िज आकर बेटा माँ को ही नसीहतें देने लगा| सुनी-सुनाई बात अनुसार माँ से बोला - "बहू को बेटी बना लो मम्मा, तब खुश रहोगी|" "बहू, बेटी बन सकती है?" पूछ अपनी दुल्हन से |" "हां , क्यों नहीं ?" आश्वस्त हो बेटा बोला | "बहू तो बन न पा रही, बेटी क्या खाक बन पायेगी वह |" गुस्से से माँ ने जबाब दिया| "कहना क्या चाहतीं हैं आप माँ जी, मैं अच्छी बहू नहीं ?" सुनते ही तमतमाई बहू कमरे से निकल कर बोली | "बहू तो अच्छी है, पर बेटी नहीं बन सकती|" "माँ जी, मैं बेटी भी अच्छी ही हूँ | आप ही सास से माँ नहीं बन पा रहीं हैं |" "मेरे सास रूप से तुम्हारा यह हाल है, माँ बन गयी तो तू मेरा जीना ही हराम कर देगी।" "कहना क्या चाह रहीं हैं आप?" " अच्छा ! फिर तुम ही बताओ , मैंने तुम्हें कभी सुमी की तरह मारा, कभी डांटा या कभी कहीं जाने से रोका|" "नहीं तो!" यहाँ तक कि मैंने कभी खाना अकेले बनाने के लिए भी तुम्हें न कहा| न ही तुम्हें अच्छा-खराब बनाने पर टोंका जैसे सुमी को टोंकती रहती हूँ|" घूरती हुई बोली। "नहीं माँ जी, नमक ज्यादा होने पर भी खा लेती सब्जी आप!" आँखे नीची करके बोली बहू। "फिर भी तुम मुझसे झगड़ती हो! मेरे सास रूप में तो तुम्हारा ये हाल है। माँ बन, सुमी जैसा व्यवहार तुमसे किया तो तुम तो मुझे शशिकला ही साबित कर दोगी।" सवालिया निगाह जबाब सुनने को उत्सुक थी। "बस करिए माँ! मैं समझ गयी | मैं एक अच्छी बहू ही बन के रहूँगी|" जरा पास आकर बहू बोली। "अच्छा!!" "मैंने ही सासू माँ नाम से ही अपने दिमाग में कँटीली झाड़ियाँ उगा रखी थी | सब सखियों के कड़वे अनुभवों ने उन झाड़ियों में खाद-पानी का काम किया|" "सुनी क्यों , यदि सुनी भी तो गुनी क्यों!!" "आज से उन झाड़ियों को नेस्तनाबूद करके उपवन सजाऊँगी दिमाग में | आज से क्यों अभी से। अच्छा बताइए, आज क्या बनाऊं मैं आपकी पसंद का ?" "दाल भरी पूरी ..! बहुत दिन हो गए खाये हुए।" जीभ मुहँ के बाहर निकल आई कहते कहते| फिर थोड़ी आँखे तिरछी करके बोली- "बना लेगी..?" "हाँ माँ जी, आप रसोई में खड़ी होकर सिखायेंगी न !!" मुस्करा के चल दी रसोई की ओर| माँ और पत्नी के मध्य वार्तालाप सुनकर बेटे को उम्मीद की किरण दिखाई पड़ने लगी |

Saturday, 22 October 2016

~~ठंडा लहू ~~



हिंदी साहित्य डेढ़ सौ रूपये किलो का बैनर देख एक व्यक्ति दुकानदार से बोला "परशुराम जी की किताब मिलेगी क्या ?"
दुकानदार की आँखों में चमक आ गयी | हाँ साहब क्यों नही मिलेगी | उनकी किताब तो कई है मेरे पास| आपको कौन सी चाहिए ?"
'दूर के परिंदे' लघुकथा संग्रह ! और भी जो उनकी कथा संग्रह तीन-चार किलो भी हों जाए तो भी दे दो सब |"
"लगता है आप पढ़ने के शौकीन है लघुकथाओं तथा कहानियों के |"
"नहीं ऐसा कुछ नहीं है| मैंने सुना है वो शायद चल बसे | दसियों साल से किसी साहित्यिक कार्यक्रम या गोष्ठी में नहीं दिखे वह | आज की नई जनरेशन उनको भूल गयी हैं |"
"तो आप उनको पढ़-जानकर उन्हें खोजना चाहते है !" ख़ुशी चेहरे पर छुपाए न छुप रही थी | उनकी कथाओं का प्रचार कर उन्हें प्रसिद्धि दिलाना चाहते हो!" अनगिनत ख्बाब आँखों में जैसे पलने को आतुर हो उठे |
"तुम्हें क्या करना इससे? और हाँ ध्यान रहें ऐसे प्राकशक की तौलना जो हलके पेज वाली पुस्तक छापता हो | भले किसी और कथाकार की एक दो रखनी पड़े तराजू पर |"
थोड़ा मायूस हुआ दूकानदार कि सस्ते में भी और सस्ता माल चाहिए इन्हें | लगता हैं सच में मुझे कोई नहीं पढ़ना चाहता है|
"पर साहब आपको चाहिए क्यों ?" पैसा हाथ में लेता हुआ दूकानदार फिर चिहुँक कर पूछ बैठा | कान शायद सुनना चाहते थे कि कोई तो है जो परशुराम यानि मुझे पढ़ना चाहता है |
"बस उनकी कथाओं के कथ्य में हल्का फेरबदल कर अपनी लघुकथा संग्रह छपवाऊँगा| उनको इस जमाने के लोग जानते भी नहीं और न पढ़े ही है कभी उनकी कथाएँ |"
"तो आप कैसे जानते है उन्हें ?" रोष छुपाते हुए दूकानदार बोला |

"पिताजी कहते थे बहुत अच्छे लघुकथाकार थे वह | लिखना है तो उनकी कथाएँ गहराई से पढ़ो | आजकल तो तुम जानते ही हो सब ऐसे ही खेल चलता है| साहित्य बेचते-बेचते इतना अनुभव तो तुम्हें भी हो ही गया होगा | आखिर ये बाल धूप में तो सफेद नही ही हुए होंगे तुम्हारें|" व्यंग्य भरी मुस्कान के साथ ग्राहक बोला |

"हाँ साहब,बस लहू न सफ़ेद हो रहा |"



चित्र पर आधारित लघुकथा..नया लेखन ग्रुप में विजेता बनी

Tuesday, 18 October 2016

रीढ़ की हड्डी

बेहोशी से उबरी बीनू ने देखा कि बच्चे सब्जी-रोटी खा रहे हैं।
उसे संतोष हुआ कि बच्चे उसकी बीमारी की वजह से कम से कम भूखे नहीं रह रहे | खाना खत्म करके वे जैसे ही उसके पास बैठे, वह पूछ बैठी - "पिंकी, खाना किसने बनाया ? पड़ोस वाली आंटी ने ?"
"नहीं, पापा ने बनाया |"
"पापा ने !"
"हाँ, पापा ने! सुबह उन्होंने नाश्ता भी बनाया था ! फिर बर्तन धोए | झाड़ू-पोंछा भी किया आपकी तरह | और दोपहर में दाल-चावल भी बनाये थे पापा ने |"
"तुम दोनों ने मदद न की पापा की?"
"नहीं, पापा ने कहा आज मैं करता हूँ | तुम दोनों हस्पताल में रहो, अपनी मम्मी के साथ | "
"कहाँ है तेरे पापा ?"
"डाक्टर ने आपकी दवा लाने के लिए भेजा है।" पिंकी ने बताया|
तभी, दरवाजे पर पापा को देखते ही टिंकू बोला- "लो, आ गए पापा|"
"बीनू उठो, दवा खा लो| टिंकू एक गिलास पानी दे बेटा|" निकट आकर पति ने कहा।
"आप ! परन्तु आप कैसे आ गये? छुट्टी मिल गयी क्या?" सवालों की बौछार लगा दी उसने।
"हाँ, मिल गयी| पूरे पन्द्रह दिन अब मैं तुम्हारे साथ ही रहूँगा |"
"इत्ते दिन !"
"हाँ..!"
"मुझे तो समझ ही न आ रहा था कि कैसे होगा... ये बीमारी भी अचानक | कोई रिश्तेदार भी तो नहीं जो महीना- पन्द्रह दिन आ जाए...। "
"चिंता न कर बीनू, सब हो जायेगा| मैं हूँ न!"
"इतनी बार परेशानी आई | हास्पिटल के चक्कर अकेली ही लगाती रही थी| इस बार कैसे आपके अफ़सर की मेहरबानी हो गई ?"

"पुलिस अधिकारी भी जानते है कि बच्चों पर कोई समस्या आएगी तो बीवी झेल लेगी, परन्तु बीवी ही बीमार हो जाएगी तो फिर कौन संभालेगा | इसलिए फटाफट सेंक्शन कर दी छुट्टी |"
"यानि रीढ़ की हड्डी हूँ मैं आपकी|"
"हाँ, वो तो हो ही बीनू | बिना किसी शिकायत के अकेली ही सब- कुछ सम्भालती रही हो |"
"पर पन्द्रह दिन तो आप हो, हमारी रीढ़ की हड्डी|" कहते हुए मुस्करा दी बीनू |
"हाँ भई, अभी तक सरकारी नौकर था, पन्द्रह दिन 'नौकर बीवी का' हूँ |
दोनों ही खिलखिला पड़े |
=============००============सविता मिश्रा

प्रदत्त विषयाधारित लघुकथा: (पति का एक दिन) नया लेखन ग्रुप में लिखी १८/२०१६ में |
'सपने बुनते हुए' साँझा संग्रह में प्रकाशित २०१७

Monday, 17 October 2016

~सबक ~

भोर सी मुस्कराती हुई भाभी साज सृंगार से पूर्ण अपने कमरे से निकली।"अहा भाभी आज तो आप नयी नवेली दुल्हन सी लग रहीं है, कौन कहेगा शादी को आठ साल हो गए है।" ननद ने अपनी भाभी को छेड़ा।
"हां! आठ साल हो गए पर खानदान का वारिस अब तक न जन सकी।" सास ने मुहँ बिचका दिया।
माँ भी न, जब देखो भाभी को कोसती रहती हैं। सोचते हुए वह भाभी की और मुखातिब हुयी। "भाभी मैं आपके कमरे में बैठ जाऊं, मुझे 'अधिकारों की लड़ाई' पर लेख लिखना है।" 
"सुन सुधा, सुन तो! तू माँ के ....|" भाभी की बात अधूरी रह गयी थी और वह कमरे में जा पहुचीं थी।
"भाभी यह क्या? आपका तकिया भीगा हुआ है। किसी बात पर लड़ाई हुई क्या भैया से!"
"वह रात थी सुधा, बीत गयी। सूरज के उजाले में तू क्यूँ पूरी काली रात देखना चाह रही है।"
"काली रात का तो पता नहीं भाभी परन्तु रात का स्याह अपनी छाप तकिये पर छोड़ गया है, और इस स्याह में भोर सा उजास आप ही ला सकती हैं।" सुधा अनायास ही गंभीर हो गयी थी और इधर उसका लेख 'अधिकारों की लड़ाई' भाभी के दिमाग में सबक बन कौंध रहा था।

(जिंदगीनामा:लघुकथाओं का सफर में रात विषय पर आधारित करके लिखा १६ अक्तूबर २०१६ में )

Wednesday, 5 October 2016

~स्त्रीत्व मरता कब है~

नक्सली लड़कियाँ जंगलो में भटक-भटककर थकान से पूरी तरह से टूट चुकी थीं | थोड़ा आराम करना चाहती थीं | भारी कदमो से ऐसे स्थान की तलाश में थी जहाँ वह थोड़ी देर बिना किसी भय के आराम कर सकें | तभी संगीत की मधुर आवाज कानों में पड़ते ही ठिठक गयीं | न चाहते हुए भी वे मधुर आवाज की ओर खींचती हुई चली गयीं | आवाज़ की ओर बढ़ते-बढ़ते वह सब गाँव के बीचोबीच आ पहुँची थीं | वहां पहुँचकर एक सुरक्षित टीले पर चढ़कर 'कुछ सुकोमल सुसज्जित लड़कियों को देख' ग्लानी से भर उठी |

उधर सुसज्जित लड़कियां संगीत की धुन पर थिरक रही थीं इधर नक्सली वेष में वो अपनी स्थिति पर अफ़सोस कर रही थीं।
"देश भक्ति के गीत पर थिरकती युवतियाँ कितनी सुन्दर लग रही है|" उसमें से एक बोली|
"हाँ बालो में गजरा, सुन्दर साड़ी, चेहरे पर एक अलग ही लालिमा छायी है इनके |" दूसरी ने हुंकारी भरकर उन नाचतीं हुई लड़कियों को फटी आँखों से देखते हुए कहा |
पहली बोली - " हमें देखो, बिना शीशा कंघी के कसकर बांधे हुए बाल, लड़को से ये लिबास, कंधे पर भारी भरकम राइफल, दमन कारी अस्त्र शस्त्र लादे, जंगल जंगल भटक रही हैं |"

सरगना हुलसकर बोली- "हम भी तो इन्हीं की तरह थे, सुकोमल अंगी | पर आज देखो कितने कठोर हो गये हैं| समय ने हममें बहुत परिवर्तन ला दिया है | एक भी त्रियोचरित्र गुण नहीं रह गया हममें |"
दूसरी ने भी हाँ में हाँ मिला कर कहा- "जिसे देखो हमें रौंदकर आगे बढ़ जाता है| सारे सपने चकनाचूर हो गये| कहने को कोई अपना नहीं इन हथियारों के सिवा |"

उस नक्सली ग्रुप की सबसे छोटी सदस्य ने कहा- " ये हथियार भी हमारी अस्मिता की रक्षा कहाँ कर पाए, हाँ खूनी जरुर बना दिए हमें|
सरगना मायूस होकर बोली- "हाँ, अब तो बदनाम ही है नक्सलाईट के नाम से | हम सब से ये गाँव वाले भी डरते हैं | यह क्या जाने असल में डरते तो हम सब हैं इनसे| तभी तो बन्दूक लेकर चलते हैं | छुप-छुपकर रहते हैं जंगलों में कि कहीं हम पर इनकी नजर न पड़ जाये और यह हमारी ख़बर पहुँचा दें पुलिस तक |"

पहली उचटती हुई बोली - "हाँ, सरकार तो हम सब के खून की प्यासी है ही| वह यह थोड़ी देखेंगी कि हमें फंसाया गया| हमारा अपरहण करके हमें इस दलदल में धकेल दिया गया | और जब बुरी तरह फंस गये, तो इन हथियारों को पकड़ाकर हमें झोंक दिया अपनों को ही मारने के लिए | "

सब के मन की पीड़ा सुनकर सरगना ने आपसी सहमती से निर्णय लिया | सभी नक्सली लड़कियाँ एक दूजे की आँखों में देखकर उस निर्णय पर अवलम्ब क़दम बढ़ा दीं | धीरे-धीरे ऐसे स्थान पर आ गयीं सब, जहाँ पर पुलिसवालों की नजर उन पर पड़ सकें|

आज शायद १५ अगस्त था, अतः पुरे लाव-लश्कर के साए के तले गाँव वाले जश्न मना रहे थे| किसी पुलिस वाले की निगाह उन नक्सली लड़कियों पर पड़ ही गयीं, जो मग्न थी जश्न देखने में| लेकिन यह भी चाहती थीं कि पुलिस वाले, या गाँव के मुखबीर उन्हें देखें |

सभी गाँव वाले, पुलिसवालों के साथ मिलकर नक्सली लड़कियों को चारो तरफ से घेरकर धर दबोचे| अपने को घिरा हुआ देखकर भी उनके चेहरे पर तनिक भी शिकन नहीं थी| यहीं तो चाहती थीं सब की सब | पुलिस अपने कामयाबी पर फूले नहीं समा रही थीं और नक्सली लड़कियां मंद- मंद मुस्करा, त्रियोचरित्र सपने बुन रही थीं | उन चंद क्षणो में हजारों सपने देख डाले होंगे उन्होंने |

स्वतंत्रता के दिन समर्पण या अपने हथियार डाल देने वालें नक्सली, मुख्यधारा में शामिल कर लिए जायेंगे | ससम्मान समाज में उन सबके रहने की व्यवस्था की जाएगी| शहर में चीफ़ मिनिस्टर के सामने पहुँचने पर जैसे ही यह ज्ञात हुआ तो वो सब अपने निर्णय पर गर्वान्वित हों उठी |

सभी मुख्यधारा में शामिल होने का, मन ही मन जश्न मना रही थीं| आज भटकाव के रास्ते से लौट आने की ख़ुशी भी उन सबके चेहरे पर साफ़ झलक रही थी | बिना किसी साज सृंगार के कालिख पुते चेहरे पर स्त्रियोचित लालिमा इतराने लगी थी| आँखों का भय कहीं कोने में दुबककर बैठ गया था, अब उन्हीं आँखों में हया तैर रही थी | नाचती हुई स्त्रियों के चूड़ियों की खनखन उन्हें अपनी कलाइयों पर महसूस हों रही थी |

सब एक दूजे की ओर देखकर मुस्करा पड़ी | आँखों ही आँखों से जैसे कह रही थीं - "स्त्रीत्व मरता कब है! देखो आज इतने सालों बाद आखिर जाग ही गया | आज भटकाव के रास्ते से लौट आने की ख़ुशी भी उन सबके चेहरे पर साफ़ झलक रही थी |.

Monday, 3 October 2016

पहला इम्प्रेशन (पहली कहानी)

"मम्मी ......... कहाँ हो आप !"
"क्या है छवि ? मैं छत पर हूँ, आ रही हूँ! क्या हुआ, क्यों चीखे जा रही हो?"
"मम्मी मम्मीईईई" छवि बड़ी तेज बोली।
"अरे बाबा क्या हुआ आती हूँ! सीढियों पर गिरकर पैर थोड़े ही तोड़वाने हैं |"
"हाँ, बता क्या हुआ! स्कूल में किसी से लड़कर आई है क्या ?"
"नहीं मम्मी, टीचर ने कहा है पत्र लिखकर ले आना ट्यूशन पर देखूँगी |"
"अच्छा-अच्छा पहले खाना खा ले। फिर लिखवाती हूँ तेरा पत्र..! ट्यूशन तो चार बजे से है न! अभी तो बस ढाई बजे है। हाथ मुहँ धो कर कपड़ें बदल ले पहले । तब तक मैं खाना गरम कर देती हूँ|"
खाना जल्दी-जल्दी ख़त्म करके छवि कापी-पेन लेकर बैठ गयी । "मम्मी जल्दी करिए|" बर्तनों की आवाज सुनकर छवि ने आवाज लगाई।
रूपा ने विषय को देखकर बोला - "अरे इतना तो सरल विषय दिया है ! पापा को ही तो पत्र लिखना है। वह भी तू खुद से नहीं लिख सकती!"
"अरे मम्मी अब लेक्चर मत दीजिए, लिखवा दीजिए ना। आप लिखवाएंगी तो पहले दिन ही मेरा इम्प्रेशन अच्छा जमेगा|" बिटिया की बात सुनकर रूपा जोर से हँसी और लिखवाने लगी पत्र |

बिटिया को सहेजकर ट्यूशन भेजते ही रूपा अपने पुराने दिनों में खो गयी। जब वह अपने पापा को ख़त लिखती थी। वह भी क्या दिन थे। पोस्टकार्ड और अंतर्देशीय पत्र खूब चलते थे| आजकल के बच्चे तो जानते ही नहीं ये किन बलाओं के नाम हैं | बस विषय के एक भाग के रूप में पत्र लेखन करते हैं। असलियत में तो पत्र लिखना जैसे भाता ही नहीं, बस फेसबुक और ह्वाट्स एप्स पर खूब लिखवा लो स्टेट्स- मैसेज वगैरह |
हमारे जमाने में ये सब कहाँ थे! पत्र ही चलते थे । खूब लिखे पत्र रिश्तेदारों को, पति महोदय को । पति का ख्याल आते ही मन ही मन मुस्करा उठी रूपा |

पति को लिखे गये पत्र तो सहेजकर रखे भी हैं इतने सालो तक। ये आज की पीढ़ी इन भावो को क्या-कैसे संभालेगीं! कम्प्यूटर और मोबाईल मैमोरी में क्या !! जमाना कितना बदल गया। सोचते ही अनमनी होकर, अतीत और भविष्य में तालमेल बैठाने लग गयी|
पत्र के विषय में सोचते-सोचते रूपा अचानक अलमारी में सहेजे पति के पत्र निकालकर, पढ़ते-पढ़ते खो सी गयी थी कि दरवाजे की घंटी बज उठी। जल्दी-जल्दी पुराने पर्स में फिर से पत्रों को सहेज अलमारी में छुपाकर रख दिया और दरवाजा खोलने चली गयी|
बिटिया दरवाजा खोलते ही चहक उठी, "मम्मी, मम्मी" रूपा बोली, "अरे बता तो क्या हुआ?"
"मम्मी टीचर ने कहा तुम्हारी हिंदी तो बहुत अच्छी है, बहुत सुन्दर लिखा है तुमने| सारे बच्चों ने खूब ताली बजायी मेरे पत्र को सुनकर और हाँ टीचर ने भी|"
"अच्छा तब तो तुम्हारा इम्प्रेशन खूब अच्छा पड़ा न?" रूपा मुस्करा कर बोली |
"हाँ मम्मी पर"
"..पर क्या?" रूपा थोड़ा आश्चर्य से बोली
"..मम्मी मैंने टीचर को सच भी बता दिया बाद में, कि पत्र आपने लिखवाया है। उन्होंने आपका मोबाइल नंबर माँगा मुझसे। पता नहीं वो मेरी शिकायत शायद आपसे करेंगी ! मम्मी आप संभाल लेना | मैं अब खेलने चली। ठीक जाऊ न?" खिलखिलाती हुई छवि बोली..।
रूपा आशंका से भर गयी । मुस्कराहट का लबादा ओढ़कर कहा - "अच्छा ठीक है जाओ, पर आधे घंटे में आ जाना अच्छा! आधे घंटे मतलब आधे घंटे ही समझी |"
रूपा भी अपने काम में लग गयी तभी मोबाइल बज उठा, उठाते ही आवाज आई- "आप छवि की मम्मी बोल रही हैं?"
रूपा समझ गयी कि ये छवि की टीचर ही होंगी । वह सफाई देना ही चाहती थी कि उधर से आवाज आई-
"आपकी बिटिया बहुत प्यारी और साफदिल की है। उसकी यह साफगोई बनी रहे इसका आप ख्याल रखियेगा। आजतक बहुत बच्चों को मैंने पढाया है, पर ऐसे बच्चें आज के जमाने में कहाँ मिलते हैं ! वह चाहती तो नहीं बताती, किन्तु उसने बताया की आपने उसकी मदद की है। पढ़ने में भी खूब अच्छी है। मेहनती है, खूब आगे बढ़ेगी।"
रूपा ने सकुचाते हुए कहा कि "आप उसका ख्याल रखियेगा।" उन्होंने भी भरोसा दिलाया .."आप चिंता ना करें, मैं अपने बच्चों को खूब मेहनत से पढ़ाती हूँ।"
"बस भेजने में डर रहीं थी कि आने जाने में..!"
"आप डरिये नहीं। मैं बच्चों को समय से छोड़ भी देती हूँ। जिस दिन भी देर हो, या आपको लगे कि मैं अपना काम ईमानदारी से नहीं कर रही हूँ आप निसंकोच फोन कर सकती हैं।"

मोबाईल पर टीचर से बात करने के बाद रूपा गदगद और आश्वस्त हो चुकी थी कि एक अच्छी शिक्षक मिल गयी है बिटिया को | वर्ना आज कल के शिक्षकों को तो पैसों की ही भूख है, बच्चें के भविष्य को उज्ज्वल बनाने की भूख कहाँ दिखती है किसी शिक्षक मेँ !! और न ही आजकल के शिक्षक अपने कार्य में हस्तक्षेप पसंद करते हैं | ये तो सामने से खुद कह रही हैं कि टोंक दीजियेगा हमें, यदि पढ़ाने में कोई कमी दिखें |

फोन रखकर बुदबुदाई "शिक्षक हों तो ऐसे"| मन ही मन मुस्कराते हुए फिर अपने काम में लग गयी|...सविता मिश्रा 'अक्षजा'

|जय विजय वेब पत्रिका में छप चुकी

~पुरानी खाई -पीई हड्डी~लघुकथा अनवरत में छपी हुई (२०१६)


अस्त्र-शस्त्रों से लैस पुलिस की भारी भीड़ के बीच एक बिना जान-जहान के बूढ़े बाबा और दो औरतों को कचहरी गेट के अन्दर घुसते देख सुरक्षाकर्मी सकते में आ गए |
"अरे! ये गाँधी टोपीधारी कौन हैं ?"
"कोई क्रिमिनल तो न लागे, होता तो हथकड़ी होती |"
"पर, फिर इतने हथियारबंद पुलिसकर्मी कैसे-क्यों साथ हैं इसके ?" गेट पर खड़े सुरक्षाकर्मी आपस में फुसफूसा रहे थे |
एक ने आगे बढ़ एक पुलिसकर्मी से पूछ ही लिया, "क्या किया है इसने? इतना मरियल सा कोई बड़ा अपराध तो कर न सके है |"
"अरे इसके शरीर नहीं अक्ल और हिम्मत पर जाओ !! बड़ा पहुँचा हुआ है| पूरे गाँव को बरगलाकर आत्महत्या को उकसा रहा था |" सिपाही बोला
"अच्छा! लेकिन क्यों ?" सुरक्षाकर्मी ने पूछा
"खेती बर्बाद होने का मुआवज़ा दस-दस हजार लेने की जिद में दस दिन से धरने पर बैठा था | आज मुआवज़ा न मिलने पर इसने और इसकी बेटी,बीबी ने तो मिट्टी का तेल उड़ेल लिया था | मौके पर पुलिस बल पहले से मौजूद था अतः उठा लाए |"
"बूढ़े में इसके लिए जान कैसे आई ?" सुरक्षाकर्मी उसके मरियल से शरीर पर नज़र दौड़ाते हुए बोला|
"अरे जब भूखों मरने की नौबत आती है न तो मुर्दे से में भी जान आ जाती है, ये तो फिर भी पुरानी खाई -पीई हड्डी है |" व्यंग्य से कहते हुए दोनों फ़ोर्स के साथ आगे बढ़ गया |

"गाँधी टोपी में इतना दम, तो गाँधी में ..." सुरक्षाकर्मी बुदबुदाकर रह गया |#सविता
नया लेखन ग्रुप में लिखी हुई
25 September 2015

Friday, 30 September 2016

कीमत(बाजी-)


बाजी-

"वाह भई, कलम के सिपाही भी मौजूद हैं। " पीडब्‍ल्‍यूडी के चीफ इंजीनियर साहब ने पत्रकार पर चुटकी ली।

"काहे के सिपाही। कलम तो आप सब के हाथ में हैं, जैसे चाहे घुमाये।" पत्रकार सबकी तरफ देखता हुआ बोला।
" पर पत्रकार भाई, आजकल तो जलवा आपकी ही कलम का है। आपकी कलम चलते ही, सब घूम जाते हैं । फिर तो उन्हें ऊँच-नीच कुछ नहीं समझ आता है। आपकी कलम का तोड़ खोजने के लिए जो बन पड़ता हैं, हम सब वो कर गुजरते हैं। " डाक्टर साहब व्यंग करते हुए बोल उठे।

"सही कह रहे हो आप सब। वैसे हम सब एक ही तालाब के मगरमच्‍छ हैं। एक-दूजे का ख्याल रखें तो अच्छा होगा। वरना लोग लाठी-डंडे लेकर खोपड़ी फोड़ने पर आमदा हो जाते हैं।" लेखपाल ने बात आगे बढ़ाई|

"पर ये ताकतवर कलम, हम तक नहीं पहुँच पाती है।" ठहाका मारते हुए बैंक मैनेजर बोला।
"क्यों? आप कोई दूध के धुले तो हैं नहीं।" गाँव का प्रधान बोला।
"अरे कौन मूर्ख कहता है हम दूध के धुले हैं। पर काम ऐसा है जल्दी किसी को समझ नहीं आता है हमरा खेल।" फिर जोर का ठहाका ऐसे भरा जैसे इसका दम्भ था उन्हें ।
सारी नालियाँ जैसे बड़े परनाले से मिलती हैं, वैसे ही विधायक महोदय के आते ही, सब उनसे मिलने उनके नजदीक जा पहुँचे।

"नेता जी मेरे कालेज को मान्यता दिलवा दीजिये, बड़ी मेहरबानी होगी आपकी।" कालेज संचालक बिनती करते हुए बोला ।
"बिल्कुल, कल आ जाइये हमारे आवास पर। मिल बैठकर बात करतें हैं।" विधायक जी बोले।
"क्यों ठेकेदार साहब, आप काहे छुप रहे हैं। अरे मियाँ, यह कैसा पुल बनवाया, चार दिन भी न टिक सका। इतने कम कीमत में तो मैंने तुम्हारा टेंडर पास करवा दिया था, फिर भी तुमने तो कुछ ज्यादा ही ...।"
"नेता जी आगे से ख्याल रखूँगा। गलती हो गयी, माफ़ करियेगा ।" हाथ जोड़ते हुए ठेकेदार बोला।

विधायक जी ठेकेदार को छोड़, दूसरी तरफ मुखातिब हुए, "अरे एसएसपी साहब आप भी थोड़ा ..., सुन रहें हैं सरेआम खेल खेल रहें हैं। आप हमारा ध्यान रखेंगे, तो ही तो हम आपका रख पाएंगे।" विधायक साहब कान के पास बोले।

"जी सर, पर इस दंगे की तलवार से, मेरा सिर कटने से बचा लीजिए। दामन पर दाग़ नहीं लगाना चाहता । आगे से मैं आपका पूरा ख्याल रखूँगा।" साथ में डीएम साहब भी हाथ जोड़ खड़े थे।
सुनकर नेता जी मुस्करा उठे।

सारे लोगों से मिलने के पश्चात उनके चेहरे की चमक बढ़ गई थी । दो साल पहले तक, जो अपनी छटी कक्षा में फेल होने का अफ़सोस करता था। आज अपने आगे-पीछे बड़े-बड़े पदासीन को हाथ बाँधे घूमते देख, गर्व से फूला नहीं समा रहा था।

तभी सभा कक्ष के दरवाजे पर खड़ा हुआ एक नौजवान सबसे मुखातिब हुआ। उसने विनम्रता से कहा, ‘’और मैं एक किसान परिवार का बेटा हूँ। जिसकी पढ़ाई करवाते-करवाते पिता कर्जे से दबकर आत्‍महत्‍या कर बैठे। परिवार का पेट भरने के लिए मुझे चपरासी की नौकरी करनी पड़ रही है। पर मुझे आज समझ आया कि मेरे पिता की आत्‍महत्‍या और मेरे परिवार को इस स्थिति में लाने में आप सबका हाथ है। आपका कच्‍चा चिठ्ठा अब मेरे पास है।‘’
बाजी पलट चुकी थी! विधायक से लेकर ठेकेदार तक, सब एक-दूसरे का मुँह ताक रहे थे।

Tuesday, 6 September 2016

~~हिम्मत का बीज~~कहानी



रामलीला मैदान में राम द्वारा चलाये बाण से घायल रावण अट्टहास करता हुआ वीर गति को प्राप्त हुआ | रामलीला मंचन को देख आठ साल की तरु पर इसका गहरा प्रभाव पड़ा |
"पापा ये रावण इतनी जोर से हंसा क्यों ?" सवाल सुनकर भी पिता ने बात टाल दी
घर आके मम्मी-पापा से फिर वही सवाल | पर पापा ने यह कह कि "कल बात करेंगे बेटा अभी घूम-घाम के थक गये | अब चलो सो जाओ |" फिर से बात को अनसुनी कर दिए |

पर नन्ही तरु के मन में सवाल अब भी गूंज रहा था कि आखिर रावण मरते समय हंसा क्यों ? "कोई हँसता हैं क्या मरते हुए , मम्मी ?"
"न कोई न | अब सो जा |" माँ हँसते हुए बोली |

तरु के क्यों? कब ? कैसे मारे गये रावण? के सवालों से घायल ,थके-हारे दोनों बड़े प्यार से उसको सुलाकर खुद भी सो गये |

सुबह-सुबह तरु की चीखने की आवाज से निर्मला उठ बैठी| पसीने से तरबतर तरु को सीने से लगाती हुई बोली "क्या हुआ बेटा ? कोई बुरा सपना देखा ?"
"मम्मी ,आप कहती हैं सुबह के सपने सच होते हैं न ? "
"हाँ, बेटा बड़े-बुजुर्ग तो यही कह गये हैं !!"
"मम्मी वो रावण ...." उसकी सांस अटक रही थी |

"क्या रावण ? " माँ समझ गयी दिमाग पर तरु के रावण ही छाया हैं उसी का सपना देख डर गयी हैं | तरु को समझाते हुए बोली "ऐसा क्या देखा बेटा ? जो इतना डर गयी |"
सिसकते हुए तरु सपने में देखा गया सारा वितांत सुनाने लगी |

मम्मी मैंने देखा कि , ' रावण अट्टहास कर रहा था क्योकि उसने देखा कि इस रामलीला मैदान में ज्यादतर लोग उससे भी ज्यादा गये-गुजरे हैं | उसने तो मर्यादा में रहकर सीता का अपरहण किया था, पर यहाँ उपस्थित लोगो की आँखों में मर्यादा नहीं दिख रही। अपनी विकराल छवि युवाओं में देख वह पुनः अट्टहास कर बैठा | उसकी निगाहों में साफ़ झलक रहा था कि 'हे राम ! तुम तो अकेले ही मुझ एक को मार गिराए ; पर कलयुग में तो मैं सहस्त्र रूपो में रहूँगा और तुम ! तुम तब तक रहोंगे ही नहीं | फिर क्या करोंगे | मैं आज भी हूँ और कल भी रहूँगा | मैं सास्वत हूँ ! मैं मारा नहीं जा सकता | जितनी बार मरूँगा उतनी बार उसके चार गुना अधिक रूपो में जन्म लूँगा | "

राम घबरा गये और अपने धनुष-बाण को रख दिए | विभीषण -लक्ष्मण ने बहुत समझाया पर राम को उनमें भी रावण दिखने लगा | जैसे कह रहा हो 'मारो राम ! जैसे मैं कई रूपों में जन्म लेता रहूँ मेरी संख्या बढ़ती रहें | जैसे-जैसे मैं मरूँगा विभत्स रूप में चार से दस गुना अधिक ताकतवर हो जन्म लूँगा | ' रावण बार-बार यह कह अट्टहास करता रहा और राम असहाय से खड़े रहें |' सपने में घटित वितांत सुना तरु सीने से चिपक गयी माँ के ।

"कहा था मत ले चलो दिखाने, पर मेरी सुनता कौन हैं इस घर में !" पति पर नाराज होते हुय चिल्लाई।
"देख लिया न बच्ची डर गयी हैं | पर नहीं चलो दिखा लाऊं तरु को भी रामलीला | अपने परम्पराओं और संस्कृति से परिचय करा लाऊ| लो अब भुगतो |"

"कुछ नहीं मेरी बच्ची ये बस एक सपना हैं | डर मत | रावण को हम मिल मार गिरायेंगे | रावण से डरना नहीं चाहिए बल्कि अपने में हिम्मत पैदा कर लड़ना चाहिए | जैसे राम-लक्ष्मण लड़ें |"

"पर मम्मी रावण तो सब में हैं | कैसे मारेंगे ?कितने मारेंगे ? हम तो कमजोर हैं ना ? आप तो कहती हैं कि मेरी बिटिया फूल सी हैं | फिर पत्थर से कैसे जीत पाऊँगी ?"
"बिटिया फूल भी यदि दृढ निश्चय कर लें तो पत्थर में भी सुराग कर उग आता | पर पत्थर कुछ नहीं कर सकता |" समझाती हुई माँ बोली

"पर मम्मा पत्थर कुचल सकता हैं ना और तोड़ भी सकता हैं ?"
"हा कुचल सकता ,पर कुचलने पर भी फूल अपनी सुगंध चहुँ दिशा में फैला देगा | पानी बहुत मुलायम और सरल होता पर लगातार पड़ने पर वह पत्थर में छेद कर देता हैं बेटा |
मन में जब विश्वास भर कोई बता ठान ली जाये तो कुछ भी असम्भव नहीं हैं 'मेरी नन्ही कली '| जानती हैं एक चींटी भी हाथी को मार सकती हैं और देख रामलीला में भी तो तूने देखा ना सुकोमल सीता शक्तिशाली रावण से बिल्कुल भी नहीं डरी | अडिग हो खड़ी रही अपनी बात पर| उन्होंने रावण केअहंकार को चूर-चूर कर दिया |"

पापा ने तरु से कहा कि "रावण इसी लिए ठठाकर हंसा था कि इतना ताकतवर होते हुए भी वह मारा गया | समझी ...मेरी लाडो |"
हा हा हा खिलखिला पड़ी तरु | उसको हंसता देख माता-पिता भी मुस्करा पड़े |
खिलखिलाते हुए तरु बोली , "मम्मी मैं भी सीता की ही तरह बिल्कुल नहीं डरूंगी , बल्कि लड़ कर हरा दूंगी रावण को, आने दो अब सामने | देखती हूँ कितनी शक्ति हैं रावण में !! डिशुम-डिशुम -डिशुम ....| ये मारा, वो मारा .....|
बिटिया में हिम्मत का बीज रोपित हो चूका था | माता-पिता ने खिलखिलाती हुई तरु को सीने से लगा संतोष की साँस ली |..सविता मिश्रा

Sunday, 7 August 2016

...मित्रता दिवस की बधाई ...

मित्र अच्छे हों या बुरे,बस मित्र होने चाहिए | हो सकता हैं जिसे हम बुरा कह रहें वो सबसे अच्छा मित्र हो| अक्सर होता यूँ हैं जो मेरी हाँ में हाँ मिलाए वो अच्छा मित्र और जो थोड़ा भी विरोध जताए वो घाती मित्र | मतलब है अपने पैरों पर आप कुल्हाड़ी मारने से मना करने वाले मित्र को हम मित्रता लायक न मानते| क्यों ऐसा ही होता है न ?

जो भी हो एक अदद मित्र तो होना ही चाहिए| ऐसा भी नहीं कि बिन मित्र के जिन्दगी गुजरेगी ही न, गुजरेगी भई| येन केन प्रकारेण तब भी ऐसी ही गुजरेगी जैसे पहले और अभी गुजरती रही हैं | माँ-बाप-भाई-बहन-दादी-दादा किसी न किसी रूप में दोस्त मिल ही जाते है| और जीवन की गाड़ी अपनी रफ़्तार से आगे बढ़ती रहती है |

कहते हैं कि जब भी कुछ होता है तो किसी न किसी बात की ओर संकेत करता है | आज नाग पंचमी और मित्रता दिवस दोनों का एक ही दिन होना, यह संजोग कहीं कोई संकेत तो नहीं कर रहा हैं न !
कुछ मित्र बरसाती सांप सरीखे हो सकते है, उनसे डरने की भी जरूरत न! बस थोड़ी सी सावधानी ही चाहिए होती हैं|  संवेदनशील व्यक्ति असावधान हो सकता है| तो भी क्या ! वो लूट कर क्या ले जाएगा आपका, बस अपना ही रंग दिखला जाएगा| वैसे भी सब कुछ यहीं पर कमाना है और यहीं छोड़ कर जाना है | कुछ भी तेरे-मेरे साथ न जाना | अतः दोस्ती के सीने पर खंजर मारने वालो से डरने की जरूरत ना शायद | अपनी अल्पबुद्दी तो यही कहती है| कुछ नाग सरीखे लोग होते जिनसे हम दोस्ती करने में भले डरे पर होते वो सच्चे दोस्त | मतलब साफ़ जो दीखते, वो लोग वो न होते जो दिखाई पड़ते है; बल्कि वो होते जो वो दिखलाना  चाहते हैं |


परन्तु इस साल यह दोनों दिवस एक साथ पड़ बहुत बड़े घात से आगाह भी करवा रहें हैं |
अतः दिखलाने और ना दिखने वाले स्वभाव -गुणों के भेद को समझ सावधान रहिए | आज के जमाने में तो लगता हैं कि 'ना काहू से दोस्ती, ना काहू से बैर' इस कहावत पर सरपट दौड़ना चाहिए| जैसे आपको दुखी हो यह गाना न गुनगुनाना पड़े कि 'दोस्त दोस्त ना रहा, प्यार प्यार ना रहा जिंदगी हमें तेरा ऐतबार ना रहा'| सविता मिश्रा

Friday, 8 July 2016

~इशारा ~


आज घर में तूफ़ान सा आया था| सारी अस्तव्यस्त चीजें सही स्थान पर रखी जा रहीं थीं | घर को बड़े सलीके से सजाया जा रहा था| पुरे मुहल्ले में लड्डू बाँटने की तैयारी पूरी हो चुकी थी | बधाइयों का तो जैसे ताँता लगा था| मोबाईल की घंटी हर क्षण घनघना उठ रही थी | जब से खबर आई थी कि अंजू ने आईएएस में टॉप किया |अंजू की ख़ुशी का ठिकाना न था | माँ-बाप के कदम तो जमीं पर ही न थे | परिवार का कोई सदस्य थक कर लेटा-बैठा न था| सब कुछ न कुछ करें जा रहें थें | पत्रकार इन्टरव्यू के लिए बस आने ही वाले थे |
अंजू अपने पिता की ख़ुशी को देख, न चाहते हुए कुछ साल पीछे का वह दिन याद करने लगी, जब घर में ऐसे ही तूफ़ान आया था | सब चीजें अस्त व्यस्त हो गयी थीं | अलमारी में रखी उसकी किताबें जमीं में बिखर गई थीं | पापा के क्रोध का शिकार हुआ उसके मोबाईल का पुरजा-पुरजा इधर उधर जमीं पर बिखरा पड़ा था | आग बबूला हो पापा ने फरमान जारी कर दिया था कि कोई जरूरत नहीं आगे पढ़ने की | घर बैठो, अपने माँ से भोजन बनाना सीखो |
माँ को भी कहाँ छोड़े थे,'देख लिया लाड प्यार का नतीजा | बड़ा जुनून था न कि अंश और इसे एक सा माहौल देकर एक मिसाल कायम करने की| एक भी संस्कार न दिए | अवारा घुमती रहती है; उसी का खामियाजा हैं | फोर्टी परसेंट नम्बर आये हैं इंटरमिडीएट में | सिखाओ अब बेटियों वाले गुण | बहुत जल्द शादी खोज अपने घर से विदा करता हूँ इसे |" गुस्से में बस बोले चले जा रहें थें |

कितना रोई-गिड़गिड़ाई थी मैं | पापा रत्ती भर भी न पिघले थे | माँ से वादा किया कि मैं सिर्फ पढूंगी और कुछ न; न दोस्त, न टीवी, न मोबाईल, कुछ भी न | किताबी कीड़ा हुई तब कहीं जाके तूफ़ान ठहरा था | फिर भी माँ को महीनों लग गये थे पापा को मुझे काँलेज में एडमिशन के लिए मनाने में |
माँ सर पर हाथ फेर बोली "अंजू, बेटा पत्रकार आ गए |" सुनते ही वर्तमान में लौटी तो देखा तूफ़ान थम चूका था | कल और आज के तूफ़ान में जमीन-आसमान का फर्क नजर आ रहा था | कल के उस क्रोध से तमतमाये चेहरे से आज फूलों की वारिस हो रहीं थी|
पत्रकार का पहला सवाल, "अंजू जी आप अपनी सफलता का श्रेय किसे देंगी |"
अंजू ने सामने बैठे पिता की ओर 'इशारा' बस कर दिया | पिता का सीना गर्व से तन गया |
माँ अपने दिए ,संस्कार, पर गदगद हो पिता की ओर देखने लगीं | सविता

~कुछ मन की~ (आज की शिक्षा पर सवाल )

फेशबुक पर जब रूबी राय का मजाक उड़ाती पोस्टों पर जब नजर जाती हैं एक टीस सी होती दिल में | रूबी राय का मजाक उड़ाने वाले हो सकता है खुद ही रूबी राय ही रहें हों | न पूरा सही अंशमात्र ही सही | घर में भी झांकिएँ रूबी राय का थोड़ा बहुत अंश दिखेगा | हम खुद ही रूबी राय की तरह पोडिकल साइंस वाले है | न जाने कितने शब्दों का उच्चारण गलत करते | इंग्लिश तो इंग्लिश हिंदी की भी लुटिया बखूबी डुबोते| लिखने में भी हिंदी शब्द को कितना गलत लिखते ये हमें यही पर पता चला , जब कईयों ने शब्दों के लिए टोका |

हमारे 'दिमाक को दिमाग' करने में प्रभाकर भैया के साथ और कई लोग जुटे रहें | श्रवण भैया, विजय सिंघल भैया,मुकेश कुमार पांड्या भैया ने बहुत मदद की | विनीता सुरेना सखी और दीपिका द्विवेदी दी और भी कई नाम हैं जिनका योगदान कम न हमारी रचना के परिमार्जन में | हाँ ये बात और है कि हम नकल नहीं करें कभी | शायद इसी लिए टॉपर भी न रहें | सामान्य विद्यार्थी थे और पढ़ना छोड़ा तो दिमाग में भी भूसा भरता गया | प्रश्नपत्र हल करके घर आते तो कोई एक भी प्रश्न का उत्तर पूछ लेता तो हमें नहीं आता था| अंशमात्र भी न याद रहता कि उत्तर-पुस्तिका में लिखे क्या हैं |

इन दिनों समाचार पत्र में पढ़े की कई शिक्षकों को प्रार्थनापत्र तक लिखना नहीं आया | बहुत सी गल्तियाँ की उन्होंने, तो लगा जब 'राजगीर ऐसा तो मकान फिर कैसा' | इन शिक्षकों की भी शिक्षा शायद ऐसे ही किसी शिक्षक के द्वारा पूर्ण हुई होगीं | मोटी रकम भर शिक्षक की कुर्सी मिली होगीं| फिर उस कुर्सी को खाली रखने के लिए आधी रकम संस्थापक के जेब में भरी होगीं | खरीदना-बेचना जब तक होता रहेगा ऐसे ही बच्चें निकलते रहेंगे | हजारों क्या लाखों ऐसे ही बच्चें कुर्सी की शोभा बढ़ा रहें और आगे भी बढ़ाते रहेंगे | आरक्षण ने तो सोने पे सुहागा किया हुआ हैं | देश को चलाने में तो अग्रणी है ऐसे ही बच्चें | देश का राष्ट्रीय गान व गीत नहीं जिन्हें पता वो देश चला रहें |
खैर ये तो सरकारी स्कूल के बच्चों की बात हुई | कान्वेंट में पढ़े बच्चें भी फर्राटे से भले इंग्लिश बोल ले पर हिंदी में तो उनकी भी नानी मरती | इंटर का बच्चा भी इतनी लिखने में गल्तियाँ करता जितनी सरकारी स्कूल के पांचवी-छटवी के बच्चें करतें | दिमाग में एक बात घुमड़ रहीं कि ऐसे बच्चों की काँपी मेरे ससुर श्री राधेश्याम मिश्रा के हाथ लगती होगीं तो उसका क्या होता होगा| इतने मग्न हो काँपी जांचते थे , एक-एक शब्द पढ़| ज्यादातर तो शुरू-अंत पढ़ नम्बर दे देते हैं शायद | जैसे चल रहा चलने दो | यदि कोई माता-पिता शिकायत करें भी तो टीचर हाथ खड़े कर देता | हर का रटा -रटाया जबाब, हमारे क्लास में ५० विद्यार्थी ,ऐसे एक-एक को हम नहीं सिखा सकते | माता-पिता भी मजबूर , पढ़ाना तो हैं ही अतः मुहं पर पट्टी बांध लेता | इमेज भी बनाएं रखनी आखिर नामी-गिरामी स्कूल का लेबल जो लगता | कोई खडूस टाइप का हो तो कह दें, 'इतनी फ़ीस फिर किस बात की भई' |
देखा जाय तो हमारे दिमाग के नींव में ही ये बात बैठा दी जाती हैं कि सब चलता हैं | देखो, सुनो पर कड़वा यानि सच्चाई न बोलो | शिक्षक अपने कर्म भूल, पैसे से मोह करते रहेंगे तो हम जैसे छात्र भी बनते रहेंगे | ना जाने कितने फर्जी बाड़े रोज समाचारों में पढने को मिल जाते हैं |स्कूल- काँलेज कुकुरमुत्तों की तरह हर गली-मुहल्लें में खुले | डिग्रियां बिकती है बोलो खरीदोगें !! नकल भी खूब होती, ज्यादतर कालेजों में पैसा गुरु और सब चेला का बोलबाला हैं | फिर उम्मीद कैसे कि कोई टॉपर सही मायने में टॉपर ही है | ऐसे टॉपरों के लिए फर्जी कॉलेजों की भी भरमार है आजकल |पैसा फेंको तमाशा देखो |
जो पकड़ा गया वो चोर जो छूट गया वो शाह !! हद है !! हम भारतीय हैं ही ऐसे एक अगुवा होता नहीं कि चल पड़ते पीछे-पीछे | पीछे की सच्चाई से किसी को कोई मतलब नहीं | कुर्सी पातें ही अपना इतिहास भूल जाते लोग, फिर वर्तमान को इतना दूषित कर देते कि इतिहास भी गर्वान्वित हो जाता | गलती उनकी भी कहाँ, जब नींव की ईंट ही लोना लगी हो| वैसे हम भारतीय अपनी गलती छुपा दुसरे की गल्तियाँ उजागर करने में भी माहिर हैं; शायद इसी लिए हम भी अपनी असफलता का घड़ा अपने ही शिक्षकों पर फोड़ रहें| खुद की खोपड़ी में भूसा भरा था | मेहनत से भी जी चुराते रहें | हमारी तरह कई सोचेंगे तो ऐसा ही सोचेंगे --
मिट्टी घट थे
निखारा होता गर
आसमां छूते |
जी-जान से सब मेहनत करें तो शायद बात कुछ और हो| मेहनतऔर लगन से आदमी कहाँ से कहाँ पहुँच जाता हैं| नकल और दौलत को बैशाखी बना आगे बढ़ने से अच्छा हैं लंगड़ा कर चलना | परन्तु लंगड़े का मजाक उड़ाते सब, जिस दिन सब मजाक उड़ाना छोड़ उन्हें भी इज्जत देने लगेंगे कोई रूबी राय नहीं बनेगी/गा |

शिक्षा का शिखर उतना मायने नहीं रखता जितना अनुभव का| एक अनपढ़ भी अनुभवी हो सकता हैं और आप सभी पढ़े-लिखों पर भारी भी | इतिहास और वर्तमान दोनों गवाह है कि शिक्षा से ज्ञान नहीं वरन ज्ञान से शिक्षा हो जाती है...अपना मत तो यही है 
बाबा रामदेव को ही देख लीजिए...बिना एमबीए किए भी किसी एमबीए के टॉपर से भी कम दिमाग न उनमे..!😊😊
शिक्षा तो एक पड़ाव पर आ समाप्त हो जाएंगी पर अनुभव आपको जिन्दगी भर शिक्षित करता रहेंगा|
किसी भी व्यक्ति को जीवन में इतना कड़ा अनुभव न कराए कि वो जिन्दगी जीना ही छोड़ दे | सविता मिश्रा

~कुछ मन की~ (आज की शिक्षा पर सवाल )

फेशबुक पर जब रूबी राय का मजाक उड़ाती पोस्टों पर जब नजर जाती हैं एक टीस सी होती दिल में | रूबी राय का मजाक उड़ाने वाले हो सकता है खुद ही रूबी राय ही रहें हों | न पूरा सही अंशमात्र ही सही | घर में भी झांकिएँ रूबी राय का थोड़ा बहुत अंश दिखेगा | हम खुद ही रूबी राय की तरह पोडिकल साइंस वाले है | न जाने कितने शब्दों का उच्चारण गलत करते | इंग्लिश तो इंग्लिश हिंदी की भी लुटिया बखूबी डुबोते| लिखने में भी हिंदी शब्द को कितना गलत लिखते ये हमें यही पर पता चला , जब कईयों ने शब्दों के लिए टोका |

हमारे 'दिमाक को दिमाग' करने में प्रभाकर भैया के साथ और कई लोग जुटे रहें | श्रवण भैया, विजय सिंघल भैया,मुकेश कुमार पांड्या भैया ने बहुत मदद की | विनीता सुरेना सखी और दीपिका द्विवेदी दी और भी कई नाम हैं जिनका योगदान कम न हमारी रचना के परिमार्जन में | हाँ ये बात और है कि हम नकल नहीं करें कभी | शायद इसी लिए टॉपर भी न रहें | सामान्य विद्यार्थी थे और पढ़ना छोड़ा तो दिमाग में भी भूसा भरता गया | प्रश्नपत्र हल करके घर आते तो कोई एक भी प्रश्न का उत्तर पूछ लेता तो हमें नहीं आता था| अंशमात्र भी न याद रहता कि उत्तर-पुस्तिका में लिखे क्या हैं |

इन दिनों समाचार पत्र में पढ़े की कई शिक्षकों को प्रार्थनापत्र तक लिखना नहीं आया | बहुत सी गल्तियाँ की उन्होंने, तो लगा जब 'राजगीर ऐसा तो मकान फिर कैसा' | इन शिक्षकों की भी शिक्षा शायद ऐसे ही किसी शिक्षक के द्वारा पूर्ण हुई होगीं | मोटी रकम भर शिक्षक की कुर्सी मिली होगीं| फिर उस कुर्सी को खाली रखने के लिए आधी रकम संस्थापक के जेब में भरी होगीं | खरीदना-बेचना जब तक होता रहेगा ऐसे ही बच्चें निकलते रहेंगे | हजारों क्या लाखों ऐसे ही बच्चें कुर्सी की शोभा बढ़ा रहें और आगे भी बढ़ाते रहेंगे | आरक्षण ने तो सोने पे सुहागा किया हुआ हैं | देश को चलाने में तो अग्रणी है ऐसे ही बच्चें | देश का राष्ट्रीय गान व गीत नहीं जिन्हें पता वो देश चला रहें |
खैर ये तो सरकारी स्कूल के बच्चों की बात हुई | कान्वेंट में पढ़े बच्चें भी फर्राटे से भले इंग्लिश बोल ले पर हिंदी में तो उनकी भी नानी मरती | इंटर का बच्चा भी इतनी लिखने में गल्तियाँ करता जितनी सरकारी स्कूल के पांचवी-छटवी के बच्चें करतें | दिमाग में एक बात घुमड़ रहीं कि ऐसे बच्चों की काँपी मेरे ससुर श्री राधेश्याम मिश्रा के हाथ लगती होगीं तो उसका क्या होता होगा| इतने मग्न हो काँपी जांचते थे , एक-एक शब्द पढ़| ज्यादातर तो शुरू-अंत पढ़ नम्बर दे देते हैं शायद | जैसे चल रहा चलने दो | यदि कोई माता-पिता शिकायत करें भी तो टीचर हाथ खड़े कर देता | हर का रटा -रटाया जबाब, हमारे क्लास में ५० विद्यार्थी ,ऐसे एक-एक को हम नहीं सिखा सकते | माता-पिता भी मजबूर , पढ़ाना तो हैं ही अतः मुहं पर पट्टी बांध लेता | इमेज भी बनाएं रखनी आखिर नामी-गिरामी स्कूल का लेबल जो लगता | कोई खडूस टाइप का हो तो कह दें, 'इतनी फ़ीस फिर किस बात की भई' |
देखा जाय तो हमारे दिमाग के नींव में ही ये बात बैठा दी जाती हैं कि सब चलता हैं | देखो, सुनो पर कड़वा यानि सच्चाई न बोलो | शिक्षक अपने कर्म भूल, पैसे से मोह करते रहेंगे तो हम जैसे छात्र भी बनते रहेंगे | ना जाने कितने फर्जी बाड़े रोज समाचारों में पढने को मिल जाते हैं |स्कूल- काँलेज कुकुरमुत्तों की तरह हर गली-मुहल्लें में खुले | डिग्रियां बिकती है बोलो खरीदोगें !! नकल भी खूब होती, ज्यादतर कालेजों में पैसा गुरु और सब चेला का बोलबाला हैं | फिर उम्मीद कैसे कि कोई टॉपर सही मायने में टॉपर ही है | ऐसे टॉपरों के लिए फर्जी कॉलेजों की भी भरमार है आजकल |पैसा फेंको तमाशा देखो |
जो पकड़ा गया वो चोर जो छूट गया वो शाह !! हद है !! हम भारतीय हैं ही ऐसे एक अगुवा होता नहीं कि चल पड़ते पीछे-पीछे | पीछे की सच्चाई से किसी को कोई मतलब नहीं | कुर्सी पातें ही अपना इतिहास भूल जाते लोग, फिर वर्तमान को इतना दूषित कर देते कि इतिहास भी गर्वान्वित हो जाता | गलती उनकी भी कहाँ, जब नींव की ईंट ही लोना लगी हो| वैसे हम भारतीय अपनी गलती छुपा दुसरे की गल्तियाँ उजागर करने में भी माहिर हैं; शायद इसी लिए हम भी अपनी असफलता का घड़ा अपने ही शिक्षकों पर फोड़ रहें| खुद की खोपड़ी में भूसा भरा था | मेहनत से भी जी चुराते रहें | हमारी तरह कई सोचेंगे तो ऐसा ही सोचेंगे --
मिट्टी घट थे
निखारा होता गर
आसमां छूते |
जी-जान से सब मेहनत करें तो शायद बात कुछ और हो| मेहनतऔर लगन से आदमी कहाँ से कहाँ पहुँच जाता हैं| नकल और दौलत को बैशाखी बना आगे बढ़ने से अच्छा हैं लंगड़ा कर चलना | परन्तु लंगड़े का मजाक उड़ाते सब, जिस दिन सब मजाक उड़ाना छोड़ उन्हें भी इज्जत देने लगेंगे कोई रूबी राय नहीं बनेगी/गा |

शिक्षा का शिखर उतना मायने नहीं रखता जितना अनुभव का| एक अनपढ़ भी अनुभवी हो सकता हैं और आप सभी पढ़े-लिखों पर भारी भी | इतिहास और वर्तमान दोनों गवाह है कि शिक्षा से ज्ञान नहीं वरन ज्ञान से शिक्षा हो जाती है...अपना मत तो यही है 
बाबा रामदेव को ही देख लीजिए...बिना एमबीए किए भी किसी एमबीए के टॉपर से भी कम दिमाग न उनमे..!😊😊
शिक्षा तो एक पड़ाव पर आ समाप्त हो जाएंगी पर अनुभव आपको जिन्दगी भर शिक्षित करता रहेंगा|
किसी भी व्यक्ति को जीवन में इतना कड़ा अनुभव न कराए कि वो जिन्दगी जीना ही छोड़ दे | सविता मिश्रा

Tuesday, 1 March 2016

~~मात -पिता परमेश्वर ~~सर्वधाम


"क्या चल रहा आजकल ?" फोन उठाते ही जेठानी पूछीं |
"अरे कुछ नहीं दीदी, घर अस्तव्यस्त है उसे ही समेट रहीं | चारोधाम यात्रा करने चले गए थे न |"
"अच्छा ! चारोधाम कर आयी और हमें भनक भी न लगने दी |" तुनकते हुए बोलीं
"नहीं दीदी ऐसी बात नहीं है !"
"ऐसी-कैसी बात है फिर ? वैसे तो तुम कहती हो हर बात बताती हूँ , फिर इतनी बड़ी बात छुपा ली मुझसे ! डर था क्या कि हम सब भी साथ हो लेंगे | साथ नहीं चाहती थी तो मना कर देती छुपाया क्यों ?"
"अरे दीदी सुनिए तो ...|"
"क्या सुनू सुमन | मैं तो सब बात बताती, पर तुम छुपा जाती हो | अरे खर्चा हम भी दे देते | माना हम पांच और तू चार है ..एक बच्चे का खर्चा सहने में तकलीफ़ थी तो बता देती | आगे से कहीं भी जायेंगे तो हम ज्यादा दे देंगे समझी |
एहसान मैं नहीं लेती किसी का |"
"अरे नहीं दी सुनिए तो ..|" फोन कट |
थोड़ी देर में सुमन फिर फ़ोन मिला बोली -"दीदी गुस्सा ठंडा हुआ हो तो सुनिए आपसे पूछा था मैंने |"
"कब पूछा तुमने |" गुस्से में बोलीं जेठानी
"महीने भर पहले ही जब बात हुई थी तभी पूछा था कि आप अम्मा-बाबु जी के पास इस गर्मी की छुट्टी में गाँव चलेंगी |"
अब दूसरी तरफ शांती फ़ैल गई थी |

Sunday, 31 January 2016

~~गूंगी बहरी माता~~


" ' कौन है रे तू ' //ये राजपथ है ऐसे कैसे मुहं ढके चली आ रही है | "
' मैं '-- "मैं भारत माता हूँ"
"तू और भारत माता " ..जोर का ठहाका लगाते हुय सुरक्षाकर्मी बोला
क्यों शर्मिंदगी हुई क्या सुन के ? मेरे बच्चे भूखे है अतः रोटी लिय जा रही हूँ ,और कई बच्चे अनाथ है और ये बच्ची कूड़े की ढेर पर थी अतः कमर में लटका रक्खा है मैं पालूंगी इसे । जैसे सब अनाथ बच्चों को पाल रहीं! और देश का प्रतिक यही राजपथ पर ही बिखरा था कैसे अपमान होते देखती अतः उठा सहेज लिया मैने ... " "अब भी कोई शक है क्या तुम्हें ?"
"नहीं ..नहीं माता , पर यहाँ कैसे और यह मुहं क्यों ढक रक्खा है ?"
"यहाँ नेताओं के गिरगिटी रंग देखने आई हूँ और मुहं से पर्दा उठा दिया तो और भी शर्मिंदा होने के साथ साथ डर भी जाओगें बेटे|"
"क्यों भला ?"
क्योकि कुदृष्टि डाली थी किसी ने और मेरे विरोध करने पर एसिड फेंक दिया , नक्शा बिगड़ गया है मेरा|
" क्या बहस कर रही है 'बुढ़िया' ? भागाओ इसे , इधर से नेताओं का आना शुरू हो चूका है, किसी की नजर पड़ी तो नौकरी से जाओगें | " दूसरा साथी गुस्से में बोला
"पागल है यार ! बस अभी हटा रहा हूँ "
"भारत माता- आप जरा कृपा करेगी और जो कुर्सिया रक्खी है वहां विराजेंगी |" कुटिल हंसी हँसते हुय बोला ..
" हाँ बेटा, क्यों नहीं ? माँ बच्चो के लिए गूंगी-बहरी - अंधी बनी रह सकती है, बस मेरे बच्चें सही सलामत रहें , परन्तु बच्चों को कुछ हुआ तो.....! " आँखे अब आग उगल रहीं थी । सविता मिश्रा

~~रंग-ढंग~~

आज फेसबुक पुरानी यादों को ताज़ा कर रहा था | अचानक चेतन को वे ,तस्वीरें दिखी जो उसने पांच साल पहले डाली थी | जिन्हे वह भूल ही गया था | अब ऐसी तस्वीरों की जरूरत ही कहाँ थी उसे |
कभी समाजसेवा का उस पर बुखार चढ़ा था, वह भी ईमानदारी से | माँ की
सीख पर भी चलना चाहता था ," 'दाहिना हाथ दें तो बाएं को भी न पता चले' सेवा मदद वो होती हैं बेटा |" लोग नाम शोहरत और पैसा सब कमा रहें थे एनजीओ से | पर चेतन तो अपना पुश्तैनी घर तक बेच किराये के मकान में रहने लगा था | बीनू एक स्कूल में शिक्षिका बन गयी थी वरना...|
कभी-कभी बीनू खीझ कर बोल ही देती कि "यदि मैं शिक्षिका न बनती तो खाने को भी लाले पड़ जाते | भिक्षुओ की मदद करते-करते कहीं भिक्षुओं की कतार में खुद ही न खड़े हो जाना |"
चेतन झुंझला कर रह जाता | फेसबुक और ह्वाट्सएप न होते तो क्या होता मेरा ! यही तस्वीरें तो थी जिन्हें देखकर दानदाता आगे आये थे और पत्रकार बंधुओ ने अपने समाचार पत्र में जगह दी | चुपचाप मदद करने और दिखा कर मदद करने में बहुत फर्क होता है | काम से नहीं नाम से शोहरत और पैसा मिलता है | समाज सेवा तो तब भी कर रहा था अब भी कर रहा हूँ , बस जरा रंग-ढंग बदल दिया |
" कोई आया है , अरे कहाँ खोये हो जी ! "
" कहीं नहीं ! बुलाओं |"
"जी चेतन बाबू,ये एक लाख रूपये हैं | बस मुझे दान की रसीद दे दीजिये जिससे मैं टैक्स बचा सकूँ |
हाँ, हाँ क्यों नहीं मोहन बाबू अभी देता हूँ ; दो लाख की रसीद पकड़ा दी ।

Saturday, 30 January 2016

~चोट ~

"ये क्या कर रहे हो दोनों बगीचे में इस बरसात में ? बीमार पड़ जाओगे अगर भींगे तो ?
"दादी, रेन कोट पहने हम दोनों, भीगेंगे नहीं | "
"इस बूंदाबांदी में भी कोई वृक्ष की जड़ों में पानी डालता हैं क्या ?"
"नहीं दादी माँ, वृक्ष को पानी नहीं दे रहे थे बल्कि बिल्ली मौसी को पानी पिला रहे थे |
"बिल्ली पी रही थी !"
"नहीं, वो भी पानी देखते ही वृक्ष के पास अपने पंजो से मिट्टी खोदने लगी | शायद उसे भी पता कि वृक्ष को पानी की जरूरत होती हैं |"
"पर बच्चों,जैसे हम तुम्हारा ख्याल रखते और प्यार करते हैं वैसे ही उन नन्हें पौधों को ही देखभाल और प्यार यानि पानी की जरूरत होती है | "वृक्ष तो बरसात से स्वयं ही पानी इकट्ठा कर लेता है |
"अच्छा ! मतलब जैसे पापा-मम्मी आपका ख्याल नहीं रखते और न प्यार बरसाते वैसे वृक्ष ...?" सविता मिश्रा

Sunday, 10 January 2016

सब तन कपड़ा ~

‘एक तो घर में जगह नहीं ऊपर से नये कपड़े चाहिए, परन्तु पुराने किसी को देने को कहो तो मुहं बनता है |' भुनभुनाते हुए थैले सहेजती | बच्चें सुनकर अनसुना कर देते |
पुराने थैले को खोल देखती फिर छाँट कर एक-दो कपड़े निकाल बच्चों को पहनने को कहती रमा| लेकिन अलमारी के कोने में हफ्तों से अनछुआ पड़ा देख उन्हें फिर थैले में भर, रख देती| थैलों को देखकर जरूरतमंद पाकर खुश हो जायेंगे, मन ही मन सोच खुश हो जाती |

रोज-रोज की किच-किच होती रमा के घर में कपड़ो को लेकर|
आज दीपावली पर बच्चों को कपड़े की जिद पकड़े देख रमा भड़क उठी -” नए कपड़े खरीदो, एक दो बार पहन ही रख देते हो| पैसे जैसे पेड़ पर उगते हैं |"
“ऐसा हैं मम्मी, ये पुराने कपड़े हम नहीं देने जायेंगे, वो भी स्कूटर से | पापा को कहो कार लेकर दें | ”
“अच्छा ! अब पुरानी चीजें किसी को देने चलना हो तो कार चाहिए, स्कूटर से शर्म आती है क्या तुम्हें ?”
“आप घर में बैठी रहतीं | निकलिए बाहर तनिक | कार होंगी तो उसी में रखे रहेंगे | दूरदराज जहाँ जरूरत मंद दिखे कोई, दे दो उन्हें |”
“ठीक है चल मैं खुद चलती हूँ आज | देखती हूँ कैसे नहीं मिलते जरूरतमंद!!!! निकाल स्कूटर मैं आ रहीं हूँ ।”
मुश्किल से दो थैले पकड़, किसी तरह सड़क किनारे झुग्गी बस्ती में पहुँची रमा | पर ये क्या !! थैला लेकर दो, फिर चार,फिर आठ झोंपड़ियों के चक्कर लगा ली वह| कीचड़, कूड़े के ढेर से से बचती बचाती घंटो बाद, भरा थैला टाँगे दूर खड़े बेटे के पास पहुँच गयी |
” क्या हुआ मम्मी ? नहीं मिला कोई जरुरतमन्द ?”
“सब तन कपड़ा चाह रही थी मैं, कपड़े भले चीथड़े हो, पर एक दो के घर के सामने यहाँ तो कार खड़ी थी , भले बहुत पुरानी ही सही | छत भले झुग्गी थी, पर टाटा स्काई की छतरी मुझे मुहं चिढ़ा रही थी | "
"और आप है कि 'महंगा है' कह टाटा स्काई हटवा दीं। "
अनसुनी कर रमा फिर बोली, "हट्टे-कट्टे लड़के बड़े-बड़े मोबाईल में वहां तो मगन थे | सोचा आगे जाऊं शायद कोई जरूरतमंद मिले | पर ना , उनसे ज्यादा जरूरतमंद तो मैं हूँ बेटा, जो बड़े बेटे के कपड़े छोटे को और छोटे के बेटी को पहना रही हूँ।