Friday, 22 August 2014

"भगवान की मर्जी"

=============
विमला मजदूरी कर घर पहुंची तो भड़क गयी भोलू पर, "कमाकर खिलाना नहीं था तो पैदा क्यों किया?"
शराबी भोला "भगवान् की मर्जी कह" बड़ी बड़ी बातें करने लगा|
भगवान सच में बड़ा कारसाज हैं, जिसके घर एक समय का ठीक से भोजन भी नहीं उसके घर हर साल बच्चे| और जिसके घर भण्डार भरा हैं, उसके उप्पर बाँझ का कलंक लगा देता हैं|
शादी के २० साल हो गये थे,सुमिता के घर किलकारी ना गूंजी थी| सुमिता भगवान के किस चौखट पर नहीं पहुंची|
आज यह जोड़ा शराबी भोलू के चौखट पर पहुँच गया| भोला और विमला में खूब बहस हुई पर .....चंद नोटों की गड्डिया ममता पर भारी पड़ गयी|
सुमिता के घर बधाई देने वालो का ताँता लगा था| आज उसकी गोद भर गयी थी, भले कोख सूनी रह गयी थी तो क्या| "भगवान की मर्जी" कह सुमिता ख़ुशी से झूम रही थी|              ...सविता मिश्रा

2 comments:

सुशील कुमार जोशी said...

सुंदर ।

Savita Mishra said...

sushiil bhaiya saadr namste .....dil se abhar apka