Sunday, 4 November 2012

~~क्या मैं तेरी कोख की जनी नहीं हूँ मैया~~

++क्या मैं तेरी कोख की जनी नहीं हूँ मैया++

मैया मेरे जन्म पर तू क्यों ,

इतना आँसू बहाती हो !
भैया के जन्म पर तो ,
खूब बन्दूक-पटाखे चलवाती हो !

मेरी कुछ भी गलती होने पर मैया ,
क्यों तू चुड़ैल कह बुलाती हो !
भैया की बड़ी से बड़ी गलती पर भी ,
तू क्यों उन्हें खूब प्यार जताती हो !

भैया को घी- चुपड़ी रोटी ,
मुझे सुखी ही पकड़ा देती हो !
भैया को दूध-बादाम बड़े प्यार से पिलाती हो ,
दूध में पानी मिला दे तू मुझे बहला देती हो !

भैया को खरोच लगे तो तू घर बाहर एक कर देती हो ,
खून मेरा बहने पर भी तू तवज्जों उसे नहीं देती हो !
थोड़ा सा दर्द हो रहा, भैया के कहते ही तू तो
डाक्टरों के चक्कर पे चक्कर लगाती हो
मेरी परवाह कहाँ मैया तुझे, मैं कितना दर्द से तड़पती हूँ
मुझे तो तू एस्प्रिन खा ले, कह डांट भगा देती हो |

मैं सानिध्य चाहू पल भर का तेरा, तू कहाँ मुझे देती हो
भैया को कंधे पर बिठा दिन-दिनभर रहती हो
लाडला बेटा मेरा राज करेगा, कह थपकी दे सुलाती हो
मेरे थके हारे शरीर पर तो तू, हाथ भी जरा सा नहीं फेरती हो |

नये-नये कपड़े, खिलौने भैया को दिलवाती रहती हो
मेले में हर घुमाने भी सिर्फ भैया को ही ले जाती हो
मेरे अरमानों का थोड़ा भी ख्याल न रखती हो
मैया बता तू मुझे , मुझसे दुर्भाव इतना क्यों रखती हो|

मैया मैं तो तेरा ही अंश हूँ ,
तेरा ही रूप हूँ ,
तेरा ही अस्तित्व हूँ !
मैया !
फिर क्यों करती हो
अनादर मेरा !
क्यों मुझसे करती सौतेला व्यवहार मैया
क्या मैं तेरी कोख की जनी नहीं हूँ मैया ?
++ सविता मिश्रा ++

1 comment:

Savita Mishra said...

https://www.facebook.com/photo.php?fbid=439070289464565&set=a.609248962446696.1073741833.100000847946357&type=3&src=https%3A%2F%2Fscontent-b-ams.xx.fbcdn.net%2Fhphotos-xpf1%2Fv%2Ft1.0-9%2F309199_439070289464565_2085843400_n.jpg%3Foh%3D2e9f52553ea4bb6fc2df095ac415a0d7%26oe%3D551D49B9&size=403%2C403